वासना की आग
 
वासना की आग...
जिस तरह इस कहानी का टाइटल है, वाकई यह सच है. और इसमें कोई दो-राय नहीं कि, जब एक जवान लड़का जवानी में कदम रखता है, तो कहीं-ना-कहीं उसके दिल में किसी को प्यार करने का खुमार होता है, और जब वो उसे नहीं मिलता, तो फिर शायद यही होता है, जो मैंने किया।

मैं किसी कंपनी में काम कर रहा था! मेरी पहचान एक लड़के से हो गयी, जो लड़कियो के बारे में काफी एक्सपर्ट था! उसकी मेरी बहुत अच्छी दोस्ती हो गयी, जो आज भी कायम है. बस फरक इतना है, को वो शादीशुदा, और मैं कुवारा हूँ!

उस दोस्त को नेट से कोई लड़की मिलि, उसने उसके साथ, खूब बातें कि, लेकिन किसी कारणवश उस लड़की का मेरे दोस्त से झगड़ा हो गया, बस इसी बात को दिल में लिये मेरे दोस्त ने मुझ को उससे मिलवाने की बात कही लेकिन मैं अपने दोस्त के बारे में उसे ना बताऊ, यह भी तय था, और फिर मैं तैयार हो गया।

मेरे दोस्त ने मुझे उसके बारे में सब-कुछ बताया और किस तरह उससे बात करनी है, सब कुछ जानकर अब, उसने मुझे उसका फ़ोन नंबर दे दिया! क्यूंकि वो जानता था, की मैं उस लड़की को पटा लूँगा!

अब मेरी उस लड़की से फ़ोन पर बात शुरू हुई, उसने मुझसे पुछा कि, मुझे उसका फ़ोन नंबर कैसे मिला? तो मैंने कह दिया की इन्टरनेट पर सर्च करते हुए मुझे उसका नंबर मिला, और अगर वो चाहती है, की हम दोनों एक दुसरे से बात कर सकते हैं, तो ठीक है, नहीं तो मैं उसे फ़ोन नहीं करूंगा! उस लड़की ने कहा की वो सोचकर बताएगी. मैंने कहा ठीक है, और फ़ोन काट दिया! 2 घटे बार उस लड़की का मिस कॉल आया, और मैंने उसे वापस फ़ोन किया, अब हम दोनों ने फ़ोन पर बात करनी शुरू कर दी।

धीरे-धीरे पता चला की उस लड़की को बियर पीने का शौक था, और वो एक दोस्त की तलाश में थी, मैंने उस से कहा कि, अगर हम दोनों एक अच्छे दोस्त बन सकते हैं? उसने कहा देखते हैं और दोनों का बात करने का सिलसिला जारी रहा।

एक दिन उसने कहा कि, उसे किसी काम से मेरे घर के पास आना है, तो मैंने उससे मिलने को कहा, उसने हामी भरी! जैसे ही उसका काम ख़त्म हुआ, उसने मुझे फ़ोन किया, एक जगह फिक्स करके हम दोनों मिले, वो मेरी बाइक पर बैठी और मैं उसे अपने घर ले आया।

घर पहुचकर मैंने उसे पानी पिलाया, और फिर उसने बियर के लिए कहा! और मैंने उसे बियर खोल के दे दी, जैसे हि बियर उसने मेरे हाथ से ली, तो उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और अपनी और खीचा! मेरे पूछने पर, "क्या हुआ?" उसने कहा, कुछ नहीं, और मेरे गाल पर एक किस कर दिया! मैं कुछ समझ ही रहा था लेकिन अभी कुछ करना नहीं चाहता था! शायद, मैं उसे पूरा टाइम देना चाहता था! दूसरा, वो लड़की मुझे मेरे स्टैण्डर्ड की नहीं लगी, जबकि देखने में वो ठीक ठाक थी!

अब हम दोनों अपनी अपनी बियर पी रहे थे. अपनी 1 बोतल ख़त्म करने के बाद जैसे उस लड़की के इमोशन बाहर आने शुरू हो गये, और वो मेरे गले लग गयी, और अपनी दास्तान बताने लगी!

मेरे दिल में उस लड़की के लिये कुछ नहीं था, सिवाय उसके साथ सम्भोग करने के! मैं उस लड़की की बातें सुन रहा था, और धीरे धीरे उसके जिस्म पर मेरा हाथ भी चल रहा था! वो भी मेरे और करीब आ रही थी! और, फिर हम दोनों एक दुसरे को किस करने लगे! मैंने उसके कपड़ो के अंदर हाथ डाला, तो वो जैसे पागल सी हो गयी और उसने मेरे सारे कपडे उतार दिये।

मेरे अंदर की वासना जाग चुकी थी, और वो भी यही चाहती थी! अब देर किस बात की थी कि, उसने कहना शुरू कर दिया कि, मैं उसमें समां जाऊ, जो मैं चाहता ही था! और वही हुआ! हमदोनो की साँसें थम नहीं रही थी, एक दुसरे को कस के पकडे हुए, किस करते हुए, मैं उसके, और अन्दर समां रहा था! मुझे बहुत मजा आ रहा था, उसकी सिसकिया मुझे और उत्तेजित कर रही थी, मै और तीव्रता से उसकी और अपनी वासना को शांत करता रहा! हमदोनो करीब 10 मिनट तक जुड़े रहे, लेकिन समय कम होने के कारण, हमने अपना मिलाप किसी और दिन के लिये छोड़ दिया!

फिर मैंने उसे एक बस स्टैंड पर छोड़ा और अपने घर वापस आ गया, अपने दोस्त को फ़ोन किया और बताया कि, आज मैंने उसे ठोक दिया है! उसने कहा वेल डन!

मैं अभी भी उस लड़की से बात करता रहा, उस लड़की को भी कोई गिला-शिकवा नहीं था! जो हमारे साथ हुआ था! एक दिन किसी बात पर हम दोनों का झगड़ा हुआ, और मैंने उससे बात करनी बंद कर दी, उसका भी पलट कर कोई फ़ोन नहीं आया. और मैं भी, यही चाहता था।


Spicy Chapters...